अमेरिका को फिच ने दिया झटका। देश की क्रेडिट रेटिंग घटाई ।AAA से AA+

(अमेरिका को फिच ने दिया झटका। देश की क्रेडिट रेटिंग घटाई,फिच ने यूएस रेटिंग क्यों घटाई,क्रेडिट रेटिंग क्या है,क्रेडिट रेटिंग कितने प्रकार की होती है,किन देशों के पास है AAA रेटिंग,अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बड़ी रेटिंग एजेंसीयां, US रेटिंग 2011 में भी डाउनग्रेड की गई थी, क्रेडिट रेटिंग कम होने से अमेरिका पर असर, क्रेडिट रेटिंग पर अमेरिका की प्रतिक्रिया)(Fitch downgrades US Credit rating, why Fitch downgrades US rating, what is credit rating,Types of Credit rating, Countries having AAA rating,International Rating agency, US Rating downgraded in 2011 also,Effect of rating downgrade on US,White House on Rating downgrade)

विश्व की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था अमेरिका को क्रेडिट एजेंसी फिच की ने तगड़ा झटका दिया है. फिच ने अमेरिका की क्रेडिट रेटिंग को AAA से कम करके AA+ कर दिया है.

अमेरिका को फिच ने दिया झटका। देश की क्रेडिट रेटिंग घटाई :Fitch downgrades US Credit rating

Table of Contents

ब्लूमबर्ग की 2 अगस्त की रिपोर्ट के अनुसार विश्व की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था अमेरिका को तगड़ा झटका देते हुए क्रेडिट एजेंसी फिच ने US क्रेडिट रेटिंग को AAA से घटाकर AA+ कर दिया है. रेटिंग एजेंसी फिच की रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका में पिछले कुछ सालों में शासन चलाने के मानकों में लगातार गिरावट दिखाई दे रही है। रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका में बार-बार ऋण सीमा का लिमिट तक आ जाना और फिर बढ़ाने के लिए हमेशा राजनीतिक गतिरोध पैदा होना आम बात हो गई है।
विगत कुछ सालों से अमेरिका पर ऋण की बहुत अधिक बढ़ोतरी हुई है और दो महीने पहले मई में US में बड़ा कर्ज संकट पैदा हो गया थाजो रेटिंग कम करने का आधार बना।

फिच ने यूएस रेटिंग क्यों घटाई: why Fitch downgrades US rating

रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका में बार-बार ऋण सीमा का लिमिट तक आ जाना और फिर बढ़ाने के लिए हमेशा राजनीतिक गतिरोध पैदा होना आम बात हो गई है। रिपोर्ट के अनुसार अमेरिकी सरकार पर कुछ सालों से लगातार ऋण बढ़ता जा रहा है और अमेरिका के आर्थिक हालात भी अभी अच्छे नहीं है।
दुनिया की तीन प्रमुख क्रेडिट रेटिंग एजेंसियों ने अमेरिका को कुछ समय पहले चेतावनी दी थी कि US की AAA क्रेडिट ग्रेड खतरे में है। फिच ने मई में अमेरिकी क्रेडिट रेटिंग को ‘रेटिंग वॉच नेगेटिव’ कैटेगरी में डाल दिया था।

रेटिंग घटाने के मुख्य कारण:

फिच की रिपोर्ट के अनुसार US रेटिंग कम करने के कुछ कारण हैं

  1. फिच की रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका में पिछले कुछ सालों में शासन चलाने के मानकों में लगातार गिरावट दिखाई दे रही है। रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका में बार-बार ऋण सीमा का लिमिट तक आ जाना और फिर बढ़ाने के लिए हमेशा राजनीतिक गतिरोध पैदा होना आम बात हो गई है। इस तरह की अस्थिरता के बाद आखिरी समय समझौता होना क्रेडिट रेटिंग रेटिंग घटाएं जाने के कारणों में है।
  2. अमेरिकी सरकार पर पिछले कुछ वर्षों में लगातार ऋण का बोझ बढ़ता जा रहा है। वर्तमान में अमेरिका पर विश्व युद्ध के बाद से सर्वाधिक ऋण है। रेटिंग एजेंसी फिच ने रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि US पर तेजी से बढ़ता ऋण का बोझ 2025 तक सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के 118 प्रतिशत तक पहुंच जाएगा।फिच रेटिंग्स ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि टैक्स घटाने और कई नए खर्च बढ़ाने से अमेरिका का बजट घाटा बढ़ जाएगा।
  3. फिच ने अमेरिका में सरकार के संचालन के स्तर में गिरावट के कारण राजनीतिक अस्थिरता और गतिरोध का भी हवाला दिया है मई में अमेरिकी सरकार पर कर्ज का दबाव बहुत ज्यादा बढ़ने के बाद कर्ज की सीमा को बढ़ाने के लिए बाइडन सरकार और रिपब्लिकन पार्टी के बीच भारी गतिरोध हुआ था जिसे अमेरिकी सरकार की नाकामी के तौर पर देखा गया है। मई में अमेरिकी सरकार पर कर्ज का दबाव बहुत ज्यादा बढ़ गया था। इस राजनीतिक अस्थिरता और गतिरोध के कारण अमेरिका पहली बार डिफॉल्ट होने की कगार पर पहुंचा गया था । ऐसे हालात में अमेरिकी सरकार में पैसे लगाने वालों के बीच नकारात्मक असर पड़ता है और इसका असर फिच की क्रेडिट रेटिंग पर भी दिख रहा है.
  4. रेटिंग एजेंसी फिच का मानना है कि अमेरिका कोरोना के बाद अभी भी मंदी और महंगाई से उबर नहीं पाया है।

क्रेडिट रेटिंग क्या है?what is credit rating


रेटिंग का उद्देश्य उधारकर्ता के आर्थिक और वित्तीय स्थिति को प्रकट करना है। किसी देश की रेटिंग तय करते समय एजेंसी उसके आर्थिक विकास, सरकारी खर्च, कर राजस्व और ऋण स्तर आदि का विश्लेषण करती है।किसी देश, संस्था या व्यक्ति की रेटिंग जारी करते समय ये एजेंसियां कोई निश्चित फार्मूला नहीं अपनाती हैं बल्कि अपने अनुभवों और आंकड़ों का इस्तेमाल करती हैं।


क्रेडिट रेटिंग एजेंसियां रेटिंग के द्वारा यह दर्शाती हैं कि कोई देश, कोई संस्था या व्यक्ति आर्थिक रूप से कितना मजबूत है ।कोई भी निवेशक किसी देश में निवेश से पहले इस रेटिंग का विश्लेषण करते हैं।
AAA रेटिंग सबसे अच्छी रेटिंग मानी जाती है।

क्रेडिट रेटिंग कितने प्रकार की होती है (Types of Credit rating)

क्रेडिट रेटिंग के कुछ प्रकार हैं:

  1. AAA (Highest safety): AAA रेटिंग वाला कोई भी देश, कंपनी या व्यक्ति निवेश करने के लिए सबसे सुरक्षित और लाभदायक माना जाता हैं।
  2. AA (High safety): देश, कंपनी या व्यक्ति में अपने वादों को पूरा करने की क्षमता है।
  3. A (Adequate Safety): A रेटिंग वाले देश, कंपनी या व्यक्ति के पास अपने वादों को पूरा करने की पूरी क्षमता है लेकीन बदली हुई विपरीत परिस्थितियों का असर दिखाई दे सकता है.
  4. BBB (Moderate safety): देश, कंपनी या व्यक्ति में अपने वादों को पूरा करने की क्षमता है लेकिन विपरीत आर्थिक हालात से प्रभावित होनी की ज्यादा संभावना है।
  5. CC: CC रेटिंग वाले देश, कंपनी या व्यक्ति की वर्तमान स्थिति बहुत कमजोर हैं
  6. D (Default): D रेटिंग वाले देश, कंपनी या व्यक्ति ऋण और उधार वापिस लौटाने में असफल रहे हैं।

किन देशों के पास है AAA रेटिंग : Countries having AAA rating


अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मुख्य रूप से तीन बड़ी रेटिंग एजेंसीया रेटिंग देती हैं और AAA रेटिंग सबसे अच्छी रेटिंग मानी जाती है। जिन देशों के पास AAA यानि ट्रिपल A रेटिंग है उनकी आर्थिक स्थिति अच्छी मानी जाती है। वर्तमान में ऑस्ट्रेलिया, डेनमार्क, जर्मनी, लक्जमबर्ग, नार्वे, सिंगापुर, नीदरलैंड, स्विट्जरलैंड आदि देशों को तीनों एजेंसी से AAA यानि ट्रिपल A रेटिंग प्राप्त है।

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बड़ी रेटिंग एजेंसीयां:International Rating agency


अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मुख्य रूप से तीन बड़ी रेटिंग एजेंसीया हैं जो अलग-अलग देशों की वित्तीय हालात को देखते हुए उन्हें रेटिंग देने का काम करती है.

  1. स्टैण्डर्ड एंड पूअर(S&P)
  2. मूडीज
  3. फिच
    मूडीज और स्टैण्डर्ड एंड पूअर(S&P) अमेरिका में स्थित हैं और फिच का मुख्यालय न्यूयार्क और लंदन में है।

US रेटिंग 2011 में भी डाउनग्रेड की गई थी: US Rating downgraded in 2011 also

US के इतिहास में यह केवल दूसरी बार है, जब क्रेडिट रेटिंग में कटौती की गई है। सरकारी ऋण पर समय समय पर होने वाले विवाद के कारण रेटिंग एजेंसी स्टैंडर्ड एंड पूअर्स ने 2011 में US रेटिंग AAA से घटाकर AA+ कर दी थी।

क्रेडिट रेटिंग कम होने से अमेरिका पर असर: Effect of rating downgrade on US

विश्व की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था अमेरिका को निवेश के लिए सबसे सुरक्षित माना जाता है। रेटिंग कम होने से उस देश में निवेशकों की मानसिकता पर प्रभाव पड़ता है।

  1. फिच द्वारा रेटिंग कम करने की वजह से सरकार को अपने ऋण पर ज्यादा ब्याज देना होगा और आगे बजट घाटा भी बढ़ सकता है।
  2. रेटिंग कम होने से उस देश में निवेशकों की मानसिकता पर प्रभाव पड़ता है और विश्वास में कमी आती है।
  3. US जैसी बड़ी अर्थव्यवस्था की रेटिंग गिरने से बाजार में अस्थिरता आती है। फिच की रिपोर्ट के बाद अमेरिका सहित दुनियां भर के शेयर बाजारों में गिरावट देखी गई है।

क्रेडिट रेटिंग पर अमेरिका की प्रतिक्रिया: US White House on Rating downgrade:


फिच द्वारा रेटिंग डाउनग्रेड करने पर व्हाइट हाउस ने इससे असहमती प्रकट करते हुए रेटिंग एजेंसी की आलोचना की है और कहा कि एजेंसी ने पुराने डाटा के आधार पर मनमानी रिपोर्ट दी है। वित्त मंत्री जेनेट येलेन (Treasury Secretary Janet Yellen) ने इसे गलत बताते हुए कहा कि अमेरिकी अर्थव्यवस्था महामारी की मंदी से उबर गई है, US में बेरोजगारी दर 50 साल के निचले स्तर के करीब है और अप्रैल-जून तिमाही में US अर्थव्यवस्था 2.4% की मजबूत वार्षिक दर से बढ़ रही है।

निष्कर्ष:


अधिकतर विशलेस्क यही मानते है कि अमेरिका जैसी बड़ी अर्थव्यवस्था पर इसका अल्पकालिक प्रभाव ही पड़ेगा, लंबे समय पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। अमेरिकी ट्रेजरी में ज्यादा बिकवाली की संभावना नहीं है और निवेशकों के विश्वास में भी ज्यादा बदलाव नहीं आएगा। ऋण पर ब्याज दरों में कुछ बढ़ोतरी हो सकती है।

FAQ:

Q1. अमेरिका की क्रेडिट रेटिंग किसने घटाई है?Who downgraded U.S. credit rating?

फिच रेटिंग एजेंसी ने U.S. की रेटिंग AAA से घटाकर AA+कर दी है।

Q2. अमेरिका की क्रेडिट रेटिंग क्या है?What is credit rating of USA?

S&P और फिच ने US को AA+ रेटिंग दी है और मूडीज ने AAA रेटिंग दी है।

Q3. कौनसी क्रेडिट रेटिंग अच्छी मानी जाती है?Which credit rating is best?

AAA

Q4.AAA रेटिंग कौनसे देशों को प्राप्त है?what country has the highest credit rating?

ऑस्ट्रेलिया, डेनमार्क, जर्मनी, लक्जमबर्ग, नार्वे, सिंगापुर, नीदरलैंड, स्विट्जरलैंड आदि देशों को तीनों एजेंसी से AAA यानि ट्रिपल A रेटिंग प्राप्त है।

Q5. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बड़ी रेटिंग एजेंसीयां कौनसी हैं:Top three credit rating companies of world

स्टैण्डर्ड एंड पूअर(S&P), फिच और मूडीज

Q6. भारत की क्रेडिट रेटिंग क्या है?What is credit rating of India

BBB

Recommended:

ऑनलाइन गेमिंग पर संकट। GST 28%।Online Gaming GST

JioBook laptop लॉन्च। भारत का पहला लर्निंग बुक सस्ता लैपटॉप 16,499 में

आईपीओ से पैसे कैसे कमाएं और निवेश कैसे करें(IPO se paise kaise kamaye or nivesh kaise karen)।How to invest and earn from IPO)

Leave a Comment